Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2018

Abhi shamsheer quatil ne, na li thi apne hathon mein

माँ हम विदा हो जाते हैं, हम विजय केतु फहराने आज।

तेरी बलिवेदी पर चढ़कर माँ निज शीश कटाने आज॥

मलिन वेश ये आँसू कैसे, कंपित होता है क्यों गात?

वीर प्रसूति क्यों रोती है, जब लग खंग हमारे हाथ॥

धरा शीघ्र ही धसक जाएगी, टूट जाएँगे न झुके तार।

विश्व कांपता रह जाएगा, होगी माँ जब रण हुंकार॥

नृत्य करेगी रण प्रांगण में, फिर-फिर खंग हमारी आज।

अरि शिर गिरकर यही कहेंगे, भारत भूमि तुम्हारी आज॥

अभी शमशीर क़ातिल ने, न ली थी अपने हाथों में ,
हज़ारों सिर पुकार उठे,कहो दरकार कितने हैं ।।
↞↜⇜⥳⬲⥵⇝↝↠ 
Maa hum vida ho jate hain, hum vijay ketu fehrane aaj|
teri balivedi par chadhkar maa nij sheesh katane aaj ||

Malin vesh yeh aansu kaise, kanpit hota hai kyun gaat ?
Veer parsooti kyun roti hai, jab lag khang humare haath ||

dhara sheeghra hi dhasak jayegi, toot jayenge na jhuke taar |
vishva kaanpta reh Jayega, hogi maa jab rann hunkar ||

Nritya karegi rann Praangann mein, fir-fir khang humari aaj |
Ari sheesh girkar yahi kahenge, Bharat Bhoomi tumhari aaj ||

Abhi shamsheer quatil ne na li thi apne hathon mein…